उधार (अज्ञेय)

सवेरे उठा तो धूप खिली थी।

सवेरे उठा तो धूप खिल के छा गई थी
और एक चिड़िया अभी-अभी गा गई थी।
मैंने धूप से कहा : मुझे थोड़ी गरमाई दोगी उधार?
चिड़िया से कहा : थोड़ी मिठास उधार दोगी?
मैंने घास की पत्ती से पूछा : तनिक हरियाली
दोगी –
तिनके की नोक भर?
शंखपुष्पी से पूछा : उजास दोगी –
किरण की ओक भर?
मैंने हवा से माँगा : थोड़ा खुलापन – बस एक प्रश्वास,
लहर से : एक रोम की सिहरन भर उल्लास।
मैंने आकाश से माँगी
आँख की झपकी भर असीमता उधार।

सब से उधार माँगा, सब ने दिया।
यों मैं जिया, और जीता हूँ
क्योंकि यही सब तो है जीवन –
गरमाई, मिठास, हरियाली, उजाला,
गन्धवाही मुक्त खुलापन,
लोच, उल्लास, लहरिल प्रवाह
और बोध भव्य निर्व्यास निस्सीम का :
ये सब उधार पाए हुए द्रव्य।

रात के अकेले अन्धकार में
सपने से जागा जिसमें
एक अनदेखे अरूप ने पुकार कर
मुझसे पूछा था : ‘क्यों जी,
तुम्हारे इस जीवन के
इतने विचित्र अनुभव हैं
इतने तुम धनी हो,
तो मुझे थोड़ा प्यार दोगे उधार जिसे मैं
सौ गुने सूद के साथ लौटाऊँगा –
और वह भी सौ-सौ बार गिन के –
जब-जब मैं आऊँगा?’

मैंने कहा : प्यार? उधार?
स्वर अचकचाया था क्योंकि मेरे
अनुभव से परे था ऐसा व्यहवार।
उस अनदेखे अरूप ने कहा : ‘हाँ,
क्योंकि यही सब चीज़ें तो प्यार हैं –
यह अकेलापन, यह अकुलाहट,
यह असमंजस, अचकचाहट,
आर्त अननुभव
यह खोज, यह द्वैत, यह असहाय
विरह-व्यथा
यह अन्धकार में जागकर सहसा पहचानना कि
जो मेरा है वही ममेतर है।
यह सब तुम्हारे पास है
तो थोड़ा मुझे दे दो उधार – इस एक बार –
मुझे जो चरम आवश्यकता है।’
उसने यह कहा,
पर रात के घुप अँधेरे में
मैं सहमा हुआ चुप रहा; अभी तक मौन हूँ :
अनजाने अरूप को
उधार देते मैं डरता हूँ :
क्या जाने
यह याचक कौन है।

(साभार: कितनी नावों में कितनी बार – अज्ञेय का ज्ञानपीठ-पुरस्कृत कविता संकलन)

5540_kitni-navon-mein-kitni-baar_lau_2012033004_30_55

Advertisements

टीका-टिप्पणी करें।

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s