उमरां दे सरवर (शिव कुमार बटालवी)

उमरां दे सरवर,
साहवां दा पाणी;
गीता वे! चुन्झ भरीं।

भलके ना रहणे
पीड़ा दे चानण,
हावां दे हंस सरीं;
गीता वे! चुन्झ भरीं।

गीता वे!
उमरां दे सरवर छलिये
पल-छिन भर सुक जान्दे;
साहवां दे पाणी
पी ले वे अढ़ेया!
अणचाहेयाँ फिट जान्दे;
भलके ना सानुं
दईं वे उल्हांमड़ा,
भलके ना रोस करीं;
गीता वे! चुन्झ भरीं।

हावां दे हन्स
सुणीन्दे वे लोभी,
दिल मरदा ताँ गान्दे;
ऐ बिरहों रुत हन्झू चुगदे,
चुगदे ते उड जान्दे;
ऐसे उडदे मार उडारी
मुड़ ना औण घरीं।

गीता वे!
चुन्झ भरें ताँ तेरी
सोने चुन्झ मढ़ावाँ,
मैं चंदरी तेरी बरदी थीवाँ,
नाल थिए परछावां;

हाड़े ई वे!
ना तूँ तिरहाया
मेरे वांग मरीं;
गीता वे! चुन्झ भरीं।

उमरां दे सरवर,
साहवां दा पाणी;
गीता वे! चुन्झ भरीं।

भलके ना रहणे
पीड़ा दे चानण,
हावां दे हंस सरीं;
गीता वे! चुन्झ भरीं।

(शिव कुमार बटालवी के पंजाबी काव्य संकलन “ਮੈਨੂੰ ਵਿਦਾ ਕਰੋ” (मैनूँ विदा करो) से उद्धृत)

mainu-vida-karoshivkumarbatalvi