किसी-रात-अकेले

किसने कहा – चाँद है?
कुछ आँख है, कुछ नाक है।
दाग हैं!
हाँ, ये चाँद है।

किसने कहा – हवा चली?
एक ख़याल था, अभी आ कर गया।
हाँ, तू मन को छू कर गई;
हवा ही तो थी।

Advertisements

टीका-टिप्पणी करें।

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s