A life wasted?

My naani died last year. Putra viyog raha unhein saari umra. She had a son who was kidnapped and killed by nana’s brother. He – the son, my mama – was 13-14 years old perhaps then. 20 saal se oopar case chala. The culprit got acquitted finally.

She lost her memory to quite an extent lately, in a matter of 2-3 years. Lost control on her bodily functions. Remembered people’s name, but could not recognise them. She remembered me, recognised me, or may be pretended to recognise me. Would hold me at night, perhaps like her son for if no one was sleeping besides her she would still spread her arm as if patting, cajoling something that should have been there. She died due to heart attack, perhaps. I was fortunate to have spent some time with her in that last year, and witnessed the futility, helplessness, loneliness, anger, grief, accumalting in an old age. A life wasted? by whom?

Advertisements

तन्नु, मन्नू और टीपू सुल्तान का रॉकेट

– दीदी, नाक में कुछ घुस गया।
– नाक में घुस गया तो मुँह क्यों खोल के बैठी है?
– नाक से मुंह में जा रहा है। बीच में फँस गया।
– छी! गन्दी लड़की। नाक बंद कर और साँस छोड़।
– वो कैसे करते हैं?
– जैसे नाक छिनकते हैं।
– नहीं हो रहा।
– पहले मुँह बंद कर।

“तन्नु!”

– अम्मा बुला रही है।
– मुझे नहीं बुलाया।
– तो बैठी रह। अभी टीपू सुल्तान आएगा, तुझे रॉकेट में बाँध के उड़ा देगा।
– टीपू सुल्तान कौन है?
– कोई राजा है।
– उसके पास बहुत सारे रॉकेट हैं?
– हाँ, बहुत बड़े-बड़े।
– मुझे तो छोटा वाला रॉकेट चाहिए।
– अरे दीवाली तो बीत गई; अब अगले साल चलाएंगे, बड़ा वाला। अम्मा से बोल तेरी नाक साफ़ करेगी।
– बड़ा वाला रॉकेट?